दिन रात करते हैं मोबाइल का इस्तेमाल तो निकल सकती है। सिर से सिंग

विदेश

आज के समय में लोगों की सबसे बड़ी जरूरत बन चुका है मोबाइल। जिसे आप बड़े बुजुर्गों से लेकर छोटे बच्चों तक और अमीर आदमी से लेकर गरीब आदमी तक के पास असानी से देख सकते है। मोबाइल एक ऐसी  डिवाइस है जिसे ऑपरेट करना सभी को आता है।  यहां तक कि एक साल के बच्चे तक को मोबाइल चलना आता है। आज के हालात तो ऐसे होते जा रहे है कि मां भी अपने बच्चे को खाना खिलाने से लेकर सुलाने तक में मोबाइल का सहारा लेती हैं। ऐसे में बच्चे मोबाइल के आदि हो जाते हैं। पर क्या आप जानते हैं, अमेरिकी एकेडमी ऑफ पेड्रियाटिक के द्वारा किये गए रिसर्च के अनुसार मोबाइल फोन बच्चों की मानसिक सेहत पर बुरा असर तो डालता ही है। साथ में मोबाइल फोन की लगातार होने वाली लत से आपके गर्दन और सिर के बीच में एक सींग की तरह हड्डी निकल सकती है।

रिसर्च किसने की?

बायोमैकेनिक्स के एक रिसर्च से साबित हुआ है कि मनुष्यों के कंकाल में बदलाव के होने का सबसे बड़ा कारण मोबाइल का लगातार उपयोग है। जो व्यक्ति गर्दन झुकाकर कई घंटो लगातार मोबाइल चलाते है, वो भी काफी लंबे समय के लिए एक ही मुद्रा में, तो गर्दन के पास एक सींग जैसी हड्डी निकलने लगती है. (हालांकि वह बाहर से दिखाई नहीं देती है)

डॉ. शहर ने बताया कि उन्हें लगा कि हमेशा गर्दन में दर्द की शिकायत ज्आयादा सुनन्तीे को मिलती थी।  जिसके चलते हमने रिसर्च की।  तब इस बारे में पता चला। कि लंबे समय के लिए एक की दिशा में गर्दन झुकाकर रखने से गर्दन पर ज्यादा दबाव पड़ता है। इसी कारण गर्दन की मसल्स स्कल यानी खोपड़ी से जुड़ती है। युवाओं के सिर का भार 10 पॉन्ड होता है। भार ज्यादा होने के कारण हमारा शरीर उस भार सहन नहीं कर पाता। इसलिए नई हड्डी बनने लगती है। जिससे भार दो हिस्सों में बंटने लगता है।

मोबाइल पर घंटों समय बिताने वाले लोग जिनकी उम्र 18 से 30 साल के बीच की है इस नई बीमारी के ज्यादा शिकार हो रहे हैं। ये रिसर्च ऑस्ट्रेलिया के सनशाइन कोस्ट यूनिवर्सिटी में किया गया। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में सनशाइन कोस्ट विश्वविद्यालय के दो शोधकर्ताओं का तर्क है कि युवाओं में हड्डी के विकास के मामले आधुनिक तकनीक के उपयोग के लिए शरीर की मुद्राओं के बदलने की तरफ इशारा करते हैं।

महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ये समस्या ज्यादा देखने को मिल रही है। रिसर्च के अनुसार 1200 लोगों में से 33 फीसद लोगों में ये उभार पाया गया. वो लोग जो 18-35 उम्र के थे, उनमें ये तेजी से फैलता हुआ दिखा. शहर ने बताया कि अगर एक बार सिंग निकल आती है तो उससे छुटकारा नहीं मिलता है. अगर इस चीज को बढ़ने से रोकना है तो बैठने के तरीको में बदलाव करना होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *