खबर का असर, निलंबित हुई सिंघानिया की खदान और क्रेशर – सुरेन्द्र त्रिपाठी

राज्य

उमरिया 12 अप्रैल – जिले में एक बार फिर हुआ खबर का असर 08 अप्रैल को चंदिया थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम बांका में बुढार निवासी ठेकेदार पदम सिंघानिया के टी बी सी एल अर्थात तिरुपति बिल्डकान कम्पनी लिमिटेड के हॉट मिक्स प्लांट एवं क्रेशर के पास पत्थर खदान के लगभग 52 फुट गड्ढे में जिसमें 26 फुट पानी भरा था, उसमें से 10 अप्रैल को होम गार्ड के अथक प्रयास से अंधेला होते समय संदिग्ध हालत में ग्राम बांका निवासी 17 वर्षीय किशोर का शव मिलने की खबर प्रसारित होने के बाद जिले के संवेदनशील कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी मामले पर संज्ञान लेते हुए पदम सिंघानिया की बांका स्थित खदान को निरस्त करते हुए क्रेशर को बंद करने का आदेश जारी कर दिये |

उमरिया जिले के चंदिया थाना अंतर्गत ग्राम बांका की इस घटना पर कलेक्टर उमरिया स्वरोचिष सोमवंशी बताये कि बहुत ही दुखद दुर्घटना हमारे जिले के ग्राम बांका में हुई है 17 वर्षीय शिवम् की डूबने से मौत हो गई है तो उसमे जो हमारे खदान के नियम हैं उसकी जांच करवाने पर उसमें नियमों का उल्लंघन पाया गया है जिस पर से खदान को निलंबित कर दिया गया है, उसको फैंसिंग करने की भी कार्यवाई हम शुरू कर रहे हैं, इस तरह के जितने भी मामले पूरे जिले में हैं उसको चिन्हित करने के लिए भी टीम गठित कर रहा हूँ ताकि आगे भी ऐसी कोई घटना न घटित हो सके, वहीँ अवैध ब्लास्टिंग के बारे में कहे कि इस बिंदु को भी हमने लिया है जो भी हमारी खदाने हैं उसको भी हम सुरक्षित करवाएंगे और ब्लास्टिंग करने में पत्थर उड़ने से किसानों का जो नुकसान होता है उसका मुआवजा भी फिक्स करवाएंगे और साथ में हमने आर बी सी 6/4 के तहत मृतक के परिजन को 4 लाख का मुआवजा भी देंने का आदेश कर दिया है वह भी जल्द ही दिया जाएगा |

गौरतलब है कि अभी तक खनिज विभाग की मिली भगत से भारी मात्रा में गौंड खनिज का दोहन जिले से सिंघानिया द्वारा किया जा चुका है लेकिन इस घटना के बाद जिले के संवेदनशील कलेक्टर ने सिंघानिया के पैसे और रसूख के प्रभाव को निष्क्रिय कर दिया और जनता की आवाज पर कार्यवाई कर बता दिया की क़ानून के अधिकार पैसे और रसूख से ऊपर हैं |

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *