दूषित पानी पीने को मजबूर उमरिया के नागरिक – सुरेन्द्र त्रिपाठी

राज्य

उमरिया 6 मई – जिला मुख्यालय में नगर पालिका की मनमानी के चलते दूषित पानी पीने को मजबूर नागरिक, वहीँ पानी भी नहीं मिल रहा है नागरिकों को परेशान लोग | जिले के कलेक्टर ने भेजा जांच टीम और कहे कि समस्या का करेंगे हल |

 

उमरिया जिला मुख्यालय में कभी भी पीने के पानी की समस्या नहीं हुई लेकिन जब से सी एम ओ का प्रभार हेमेश्वरी पटले को मिला है तब से नगर में 25 दिन से गन्दगी का आलम पसरा है और अब तो नागरिकों को पानी की भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है कहने को तो उमरार नदी से पानी की सप्लाई नगर में दी जा रही है लेकिन जल प्रभारी देवल सिंह की मनमानी के चलते नगर के पानी सप्लाई का वाल पूरी तरह से न खुलवाए जाने के कारण नगर में पेय जल की विकराल समस्या बनी हुई है इतना ही नहीं नगर के वार्ड नंबर 1, 2, 11 और 12 विकटगंज, जमुनिहा, लालपुर, छटन, लोहारगंज, भंगहा में तो लोग पीने के पानी को तरस रहे हैं वहां न तो टैंकरों से पानी भेजा रहा और न ही पाईप लाईन के माध्यम से पानी मिल रहा है, कागजों में टैंकरों के बिल जरूर लग रहे हैं वहीँ 22 मार्च से ब्लीचिंग पाउडर भी फ़िल्टर प्लांट में नहीं है और लगातार रा वाटर सप्लाई किया जा रहा है जिसके कारण डायरिया के मरीज और पेट संबंधी अन्य बीमारियों के शिकार नागरिक होते जा रहे हैं | इस मामले में ज्ञान प्रसाद सेन का कहना है कि निर्धारित समय पर पानी नहीं आता है और चलता है तो बहुत धीमा और गंदा पानी आता है पेट ख़राब हो रहा है मजबूरी में उपयोग करना पड़ता है प्रशासन ध्यान नहीं देता है | नगर के जागरुक नागरिक राहुल रूंगटा का कहना है कि पानी की स्थिति बहुत ख़राब है नगर पालिका न समय से नल चला रही है और टाईम पीरियड बहुत कम है पेय जल इतना गंदा है कि अगर आपके घर में आर ओ नहीं लगा है तो आप पानी नहीं पी सकते हैं हम लोगों को इस समय बहुत ही गंदी स्थिति में पानी मिल रहा है फ़ोर्स बहुत कम है घर में पानी नहीं हो पा रहा है अगल – बगल वालों के यहाँ से पानी लेकर आना पड़ता है | घरों में काम करने वाली गरीब महिला उषा कोरी का कहना है कि हम घरों में झाडू, पोंछा बर्तन साफ कर अपना गुजारा करते हैं और नल का गंदा पानी पीने से अभी 10 दिन बीमार रहे दस्त लगते थे पेट में दर्द था और जैसे ही अस्पताल से आये फिर से उसी काम में लग गए यदि न करेंगे तो गुजारा नहीं होगा | वहीँ नागरिक कल्लू का कहना है कि नल धीरे – धीरे चलता है किसी तरह गुजारा कर  रहे हैं मजबूरी है |

इस मामले में जिले के कलेक्टर एवं नगर पालिका के प्रशासक स्वरोचिष सोमवंशी से बात किया गया कि नगर में रा वाटर सप्लाई किया जाता है तो उनका कहना है कि जांच हो गई है प्रतिवेदन आने में एक दिन लेट हो गया है आज शाम तक हमारे पास प्रतिवेदन आ जाएगा उसको देख कर जो भी होगा उसके आधार पर कार्यवाई सुनिश्चित करेंगे वहीँ जब पानी की सप्लाई के बारे में पूंछा गया तो कहे कि इसको दिखवा लेते हैं ये बात सही है कि गरमी के समय में रहवासियों के लिए पानी की कमी नही होनी चाहिए दो तीन दिन में हम लोग सारी व्यवस्थाएं ठीक कर लेते हैं |

गौरतलब है कि पूर्व के कलेक्टर द्वारा जिला मुख्यालय के नगर पालिका के सी एम ओ का प्रभार प्रोविजन पीरियड में आयी हेमेश्वरी पटले को दे दिया गया जबकि जिले में सीनियर और अनुभवी सी एम ओ भी मौजूद हैं और उसका खामियाजा जिला मुख्यालय के नगरवासियों को भुगतना पड़ रहा है, यदि यही हालत रहे तो वो दिन दूर नहीं जब जिला अस्पताल में डायरिया के मरीजों की भरमार हो जायेगी |

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *