डिंडौरी के बजाग में सोशल डिस्टेंसिंंग का पालन कर पनिका समाज ने मनाया संत कबीर का प्रगट दिवस

धर्मेन्द्रपाल मानिकपुरी संत कबीर 15वीं सदी के भारतीय रहस्यवादी कवि और संत थे. वे हिन्दू धर्म व इस्लाम को न मानते हुए धर्म निरपेक्ष थे. उन्होंने सामाज में फैली कुरीतियों, कर्मकांड, अंधविश्वास की निंदा की और सामाजिक बुराइयों की कड़ी आलोचना की थी. उनके जीवनकाल के दौरान हिन्दू और मुसलमान दोनों ने उन्हें अपने विचार […]

Continue Reading