जिले में फूटा कोरोना बम 5 हुई संख्या 1 की मौत

राज्य

सुरेन्द्र त्रिपाठी
उमरिया 24 मई – जिले में पूर्व से 2 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे लेकिन जिला प्रशासन की लापरवाही का परिणाम आम जनता को भुगतना पड़ रहा है, मामला है आज 3 और पॉजिटिव मिलने का, अब तो जिले के खाते में 5 पॉजिटिव सहित एक मौत भी शामिल हो गई, शुक्रवार शनिवार की दरम्यानी रात ग्राम कुसमहा निवासी 65 वर्षीया शकुंतला अवस्थी की मौत से जहां लोगों में दहशत का माहौल रहा, मानपुर निवासी पशोपेश में रहे कि आखिर चोरी चुपके प्रशासन रात में अंतिम संस्कार किसका करवा रहा है। सुबह होते ही लोगों को पता चला कि बैगा आदिवासियों के घर के नजदीक बने मुक्ति धाम ग्राम सिगड़ी में मुम्बई से आई वृद्धा शकुंतला अवस्थी का अंतिम संस्कार पेट्रोल डाल कर पुत्र संतोष अवस्थी की मौजूदगी में प्रशासन द्वारा कर दिया गया। वहीं सूत्रों के अनुसार अभी तक शव पूरा नही जला है, लोग डर के कारण उस रास्ते से निकलना बंद कर दिए हैं। गौरतलब है कि मुम्बई से लाये गए इस परिवार का जिम्मेदार जनपद में पदस्थ बाबू राम प्रकाश तिवारी है। तीन लोगों की ऑनलाइन अनुमति लेकर निजी वाहन से मुम्बई से लाने वाले राम प्रकाश तिवारी जब मानपुर बुलवाए तो उनको उनके गृह ग्राम कुसमहा भेजे लेकिन वहां के लोग डर के मारे गांव में नही घुसने दिए तब राम प्रकाश तिवारी मानपुर में बीच बस्ती में बने अपने माकान में ग्रामीण बैंक के ऊपरी तल में सभी लोगों को रोक दिए, वहीं तीसरे दिन अचानक वृद्धा की तबियत खराब हुई और रात में मौत हो गई तब आनन फानन में प्रशासन द्वारा सैम्पलिंग करवाया गया और रात में 3 बजे पेट्रोल डाल कर अंतिम संस्कार भी करवा दिया गया। जिसकी रिपोर्ट आज पॉजिटिव आई है, वहीं मानपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के लैब टेक्नीशियन से सी एम एच ओ द्वारा बिना किसी पर्याप्त सुरक्षा के सैम्पलिंग कराए जाने से उनकी भी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है, साथ ही पाली जनपद के ग्राम मालचुआ निवासी एक युवक की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस तरह अब जिले में कुल संख्या 5 पॉजिटिव हो गई है और 1 मौत भी जिले के खाते में चली गई। वहीं मृतक महिला के साथ उनकी 10 वर्षीया पोती की भी तबियत खराब है लेकिन उस बच्ची का सैम्पल नही लिया गया। यदि सूत्रों की मानें तो सी एम एच ओ डॉक्टर राजेश श्रीवास्तव द्वारा निहायत घटिया किस्म की पी पी ई किट खरीदी गई है जिससे पूरा स्टाफ दहशत में है और मजबूरी में काम कर रहा है, वहीं बात करें जिले के कलेक्टर की तो वो मात्र कागजों में काम करते रहे जिसका खामियाजा आज ट्रांसफर के तौर पर भुगतान पड़ा, जबकि पुलिस विभाग अकेले दौड़ भाग में लगा है लेकिन जिला प्रशासन कागजों तक सीमित रह कर नागरिकों की जान खतरे में डाल दिया। वहीं जनपद में पदस्थ बाबू राम प्रकाश तिवारी के ऊपर भी कार्रवाई होना चाहिये, क्योंकि हॉट स्पॉट से आने वाले को बीच बस्ती में क्यों रखा। जबकि जिला प्रशासन भी उतना ही दोषी है, अब मृतक महिला कितने लोगों से मिली थीं यह पता लगाना कठिन काम है। इतना ही नहीं जो लोग जिले में हॉट स्पॉट से आये हैं या आ रहे हैं उनकी जानकारी जिला प्रशासन को एकत्रित कर सभी के सैम्पल लेने चाहिए ताकि जिले को बचाया जा सके। जिले के सी एम एच ओ पर भी कार्यवाई की दरकार है और निष्पक्ष जांच की आवश्यकता है ताकि उनकी भी कलई खुल सके, यदि देखा जाय तो इनको भी कोरोना से अत्यधिक डर लगता है जिसके चलते फील्ड में नही निकलते हैं। यदि जिले की मानपुर विधायक और प्रदेश सरकार में मंत्री सुश्री मीना सिंह अभी भी इधर विशेष ध्यान नही देती हैं तो वो दिन दूर नही जब जिला रेड जोन में चला जायेगा और जिले के निरीह गरीब आदिवासी और जिलेवासी कोरोना की चपेट में आकर बिना जांच और उपचार के दम तोड़ने लगेंगे और जिला प्रशासन और सी एम एच ओ उनकी मौत को पुरानी बीमारी से मौत होना बता कर अपने कर्तव्यों की इति श्री कर लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *