जिले में लगातार बढ़ रहा कोरोना का संक्रमण, नही मिल रहा ठीक से खाने को, मरीज परेशान

हेल्थ

सुरेन्द्र त्रिपाठी

उमरिया 17 सितम्बर – जिले में फूटा कोरोना बम, अब तक की सबसे ज्यादा पॉजिटिव केशों की संख्या आई 47, जिले में नही थम रहा कोरोना का कहर मरने वालों की संख्या हुई 5, कोरोना पॉजिटिव संख्या पहुंची 317, अब तक डिस्चार्ज हुए मरीजों की संख्या 175, एक्टिव केश 137, आज तक 560 रिपोर्ट अप्राप्त, लगातार बढ़ रहे कोरोना पॉजिटिव मरीजो की संख्या, जिला अस्पताल और सी एम एच ओ की लापरवाही, जिले में नही बताया जा रहा है किस क्षेत्र के लोग निकल रहे हैं कोरोना पॉजिटिव, जबकि दूसरे जिले में पॉजिटिव लोगों के रिहायसी इलाके की जानकारी दी जाती है, वहीं जिले की मंत्री के नजर में ईमानदार, कर्तव्यनिष्ठ, सेवा भाव से परिपूर्ण सी एम एच ओ डॉक्टर राजेश श्रीवास्तव के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन में कोरोना पॉजिटिव मरीज चाय और नाश्ते को तरस रहे हैं। जानकारी के अनुसार जिले में कोविड टेस्ट के लिए रैपिड किट की भी कमी होने लगी है, जबकि अब सुप्राटेक कंपनी को सैम्पल जाना बंद हो गया वहीं ट्रूनोट मशीन से भी टेस्ट होना बंद कर मात्र रैपिड किट से टेस्ट हो रहा है, इतना ही नही सरकार 3 सौ रुपये प्रतिदिन प्रति मरीज के मान से भोजन का पैसा दे रही है वह भी एक मरीज के लिए 14 दिन का पैसा आता है लेकिन बेचारे सी एम एच ओ साहब को ऊपर से लेकर नीचे तक हिस्सा जो देना पड़ता है इसलिए अब दो चार दिन में ही मरीजों को भगा दिया जाता है और 14 दिन का पूरा बजट बांटने में व्यय कर दिया जाता है भले ही मरीज भूखों मरता रहे, इनकी ईमानदारी देख कर विधानसभा में भी प्रश्न भाजपा के ही वरिष्ठ विधायक द्वारा लगाया गया है, वैसे लोग इतनी शिकायत कर चुके हैं कि ऊपर के भी ईमानदार अधिकारी इनकी कर्तव्यपरायणता देख कर शिकायतों से ऊब चुके हैं वो भी अब गांधी जी की तरफ देख कर अपना मुंह बंद कर लेते हैं, ऐसे में बेचारे कोविड के मरीजों के सामने घुट – घुट कर मरने के अलावा क्या है। ऐसा नही है कि इनकी ईमानदारी और कार्यप्रणाली देख कर बांधवगढ़ विधायक से लेकर बड़े छोटे सभी नेता इनकी शिकायत न किये हों, लेकिन जिले की मंत्री से लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक सभी अपनी आंख बंद किये बैठे हैं, हां इतना जरूर है कि घोषणाओं में और भाषणों में किसान पुत्र से अच्छा कोई नेता ही नही है, भले जनता मरती रहे, अभी तो कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़नी शुरू हुई है और दिन प्रतिदिन बढ़ना ही है, ऐसे में कहीं ऐसा न हो कि मोदी जी जैसे लाकडाउन के दौरान थाली कटोरी बजवाये थे, उसी तर्ज पर जिला अस्पताल और बाकी कोरेन्टीन सेंटरों से लोग थाली कटोरी बजाते बाहर निकल आये। अभी भी वक्त है जिले के अधिकारी और मंत्री ऐसी अप्रिय स्थिति आने से पहले इनकी जांच करवा कर सख्त कार्यवाई करवाएं और लोगों को राहत दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *