करंट से हथिनी की मौत, पार्क प्रबंधन की लापरवाही का नतीजा

प्रदेश

सुरेन्द्र त्रिपाठी

उमरिया 30 अगस्त – जिले के बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पनपथा अभ्यारण क्षेत्र के गांगीताल बीट के अंतर्गत कक्ष क्रमांक आर एफ 433 में हाई वोल्टेज इलेक्ट्रिक लाइन से करंट की चपेट में आने से कल एक जंगली हथनी की मौत हो गई, एस डी ओ अनिल कुमार शुक्ला बताये कि आज सुबह जंगली हाथियों का झुंड गुजर रहा था, रास्ते में तालाब के मेंड़ के ऊपर से हथनी तालाब में उतरने की कोशिश की जिसमें हथनी का शरीर हाई वोल्टेज लाइन की तार से टकराई और मौके पर हथनी की मौत हो गई जिसकी सूचना गांव वालों के द्वारा दी गई, सूचना सुनकर सभी कर्मचारी अधिकारी मौके पर जाकर मौका निरीक्षण किये, शव का पोस्टमार्टम करवा कर दफनाया गया। वहीं बड़ी बात यह है कि जहां पर हथनी करंट की चपेट में आई वहां विद्युत लाइन तालाब की मेढ़ से लगभग 8 फिट की ऊँचाई पर है जो पार्क प्रबंधन की घोर लापरवाही का नमूना है।

घटना स्थल

जिससे आने वाले समय में अन्य दुर्घटनाओं की संभावना है। इसके लिए एस डी ओ कहे कि पनपथा रेंजर द्वारा पूर्व में भी विद्युत विभाग को पत्र लिख कर दिया जा चुका है। अपनी गलती छिपाने के लिए बिजली विभाग पर मामला थोपा जा रहा है, सूत्रों की माने तो आज तक किसी ने बिजली विभाग को लिख कर दिया ही नही है और पार्क प्रबंधन के पास किसी प्रकार की पावती नही है। सवाल यह उठता है कि विद्युत लाइन पहले निकली या तालाब पहले बना है, यदि तालाब पहले बना है तो बिजली विभाग की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए, वहीं अगर विद्युत लाइन पहले निकली है तो पार्क प्रबंधन की जिम्मेदारी तय होनी चाहिये। यह जांच का विषय है लेकिन उच्च अधिकारियों को चाहिए कि इस मामले पर संज्ञान लेकर हाथी की मौत पर निष्पक्ष जांच कर दोषियों पर जिम्मेदारी तय करें ताकि दुबारा ऐसी घटना को घटने से रोका जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *