रेत ठेकेदार के आगे नतमस्तक शासन और प्रशासन, एस एच और एन एच में लगे बैरियर

क्राइम

सुरेन्द्र त्रिपाठी

उमरिया 10 जुलाई – जिले में रेत ठेकेदार की दबंगई, करोणों के राजस्व की हो रही चोरी, ठेकेदार द्वारा एन जी टी के निर्देशों का किया जा रहा खुला उल्लंघन, राजस्थान से लाये गए दो सौ गुंडों के दम पर की जा रही है दबंगई। रेत ठेकेदार के गुंडों की जिले के थानों में नही दर्ज है मुसाफिरी, पुलिस को भी नही हैं मालूम जिले में कितने हैं बाहरी लोग।वहीं खुले आम नदियों का सीना भारी मशीनों से किया जा रहा है छलनी। युवक कांग्रेस ने चेताया यदि नही लगी लगाम तो करेंगे आंदोलन। स्टेट हाइवे और नेशनल हाइवे में लगे बैरियर, नियम विरुद्ध खनिज विभाग ने लगवाए बैरियर, जिले के कलेक्टर किये कार्रवाई की बात।


उमरिया जिले में आर एस आई स्टोन वर्ड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा खनिज निगम से रेत खदानों की नीलामी में 38 खदान ली गई जिसमें 6 खदानों की स्वीकृति मिली है। उन खदानों को ठेकेदार द्वारा चालू कर लिया गया और चैन माउंटीन मशीनों से अवैध तरीके से रेत निकलवाया जाने लगा, जबकि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा मशीनों को प्रतिबंधित किया गया था वहीं 4 जून 2020 को किसान कल्याण मंत्री कमल पटेल द्वारा प्रदेश के सभी कलेक्टरों को निर्देशित किया गया था कि किसी भी खदान में मशीनों से रेत का उत्खनन नही किया जाएगा और प्रवासी मजदूरों को काम दिया जाएगा, उसके बाद भी रेत ठेकेदार और खनिज विभाग की मिली भगत से खुले आम मशीनों से उत्खनन किया जा रहा है। इतना ही नहीं जिले के उमरिया से ताला रोड पर ग्राम महिमार के सामने मुख्य सड़क पर खुले आम बैरियर लगाए गए हैं, वहीं राष्ट्रीय राज मार्ग 43 में जीरो ढाबा के पास भी बैरियर लगाया गया इसके अलावा 4 जगह और भी बैरियर लगाया गया है जहां ठेकेदार के गुंडे 10 – 12 की तादात में 24 घंटे डेरा डाले रहते हैं।

युवक कांग्रेस के विधानसभा अध्यक्ष शाहरुक खान ने कहा कि जिले में आर एस आई स्टोन वर्ड प्राइवेट लिमिटेड द्वारा पूरे जिले में चैन माउंटीन मशीन द्वारा रेत निकाला जाता है, टी पी मानपुर मुंहबोला का काटते हैं और रेत बड़ेरी, तखतपुर, महिमार से निकालते हैं, 2500 रुपये ट्रेक्टर की टी पी का लेते हैं और 1500 रुपये बिना टी पी का लेते हैं, बिना टी पी का पैसा सीधे ठेकेदार के जेब मे जाता है, गुंडाराज है, शासन के राजस्व की चोरी है, वहीं आरोप लगाते हुए कहे कि शासन के पूरी जानकारी में है, कलेक्टर, एस पी, एस डी एम, सभी के जानकारी में है, दिन में गाड़ियां चलती हैं, हमारी शासन से मांग है इस पर कार्रवाई करें, नही तो युवक कांग्रेस आंदोलन करेगी और तब तक करती रहेगी जब तक कार्रवाई नही होगी।
वहीं इस मामले में हाईवा और डंम्पर मालिक विनय सिंह कहे कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने 3 माह के लिए नदियों से रेत उत्खनन पर रोक लगाया है इसके बाद भी ये लोग खैरभार, सुखदास, सलैया, मुंहबोला से चैन माउंटीन मशीन से रेत निकाल कर खदान चला रहे हैं, 7 और 8 तारीख को हमको पता चला कि ये अवैध है, जब हम इनसे कहे तो बोले कि बड़ेरी और तखतपुर से भंडारण से रेत लोड हो रही है तब जब हम वहां गए तो ऐसा कुछ भी नही था, लेकिन वो लोग तखतपुर से लोड करवाये और हमसे डंपर का 9 हजार लिए और बिना टी पी का लिए 7 हजार, बोले कि हमारे पास रॉयल्टी कम है और टी पी दिए तो वह भी मानपुर मुंहबोला की, बोले कि हमारी कलेक्टर, एस पी, माइनिंग में पूरी सेटिंग है, हमने कहा कि हमको चोरी नही करना है, यही हाल, गोवर्दे, मुंहबोला, सुखदास, खैरभार में चल रहा है, हम कलेक्टर महोदय से बात किये तो वो हमको बोले कि ऐसा कुछ नहीं है, हम कार्रवाई करवाते हैं, आप इनके कहने से कोई गाड़ी मत लगाइए।
वहीं ट्रेक्टर मालिक विनीत सिंह बताये कि पहले ट्रिप का 2500 रुपये लेते हैं और दूसरे ट्रिप का 1500 रुपये लेते हैं और टी पी मानपुर बलहौन्ङ की देते हैं जबकि वहां से ट्रेक्टर से लाना सम्भव नहीं है, ठेकेदार के आदमी सीधे कहते हैं कि आप लोग रेत ढोईये कोई नही बोलेगा, एस पी, कलेक्टर सभी मैनेज हैं और खनिज विभाग तो फोन ही नही उठाता, हम लोग 2 दिन ढोये हैं सभी लोग निकले हैं लेकिन कोई बोला नही।


इस मामले में जब माइनिंग कारपोरेशन के डायरेक्टर विनीत ऑस्टिन से उनके मोबाईल नंबर 8120660665 पर बात किया गया तो मीटिंग में होने की बात कहे और कहे कि 1 घंटे बाद बात कीजिये उसके बाद फोन ही रिसीव नही किये, वहीं जब जिले के खनिज अधिकारी मान सिंह से बात करने का प्रयास किया गया तो वो भी कार्यालय में नही मिले और फोन भी नही उठाये, इसके बाद जिले के कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव से बात किया गया तो उनका कहना है कि 1 जुलाई से पूरे प्रदेश में रेत उत्खनन पर प्रतिबंध है, पूरे जिले में पता लगाया जा रहा है जहां भी जानकारी मिलेगी कार्रवाई की जाएगी।


वहीं जिले की सभी खदानों में खुले आम सारे निर्देश और आदेश का उल्लंघन करते हुए बाहुबली रेत माफिया मनमानी कर रहा है। इतना ही नही सूत्रों के अनुसार मानें तो जब से रेत ठेकेदार के गुंडे राजस्थान  से आये हैं तब से लगातार शांतिप्रिय जिले का माहौल दूषित हो गया है साथ ही लगातार हत्या जैसे कई जघन्य अपराध भी हो चुके हैं लेकिन आज तक जिले के किसी भी थाने में मुसाफिरी दर्ज नही है।
गौरतलब है कि कांग्रेस सरकार को रेत के मामले में कोसने वाली भाजपा, सत्ता में आते ही उनसे ज्यादा तेजी से अवैध उत्खनन और परिवहन करवाने में जुट गई है, ऐसे में राजस्व की चोरी के साथ अपराध पर लगाम लगाने के लिए सख्त होना आवश्यक है और ऐसे ईमानदार खनिज अधिकारी की जांच करवा कर सख्त कार्रवाई होना आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *