किल कोरोना अभियान का सच, नही हुई हर जगह स्क्रीनिंग

प्रदेश

सुरेन्द्र त्रिपाठी

उमरिया 16 जुलाई – जिले में भी शासन के निर्देश के अनुसार 1 जुलाई से 15 जुलाई तक किल कोरोना अभियान चलाया गया, आइए आपको दिखाते हैं जिले में अभियान का सच।


प्रदेश सरकार ने 1 जुलाई से 15 जुलाई तक पूरे प्रदेश में किल कोरोना अभियान चलाने का निर्देश जारी किया था, जिसमें जिलों के सी एम एच ओ निर्देशित किया गया था कि जिले में टीम गठित कर एक – एक आदमी की चाहे वो बच्चा हो या जवान हो या बूढ़ा हो सभी की थर्मल स्क्रीनिंग करने के साथ पल्स और ऑक्सीजन की रीडिंग लेकर जांच करनी थी, जिले में टीम तो गठित की गई लेकिन वो टीम क्या की इसका पता तो तब चला जब हम गांव – गांव जाकर देखे और सच्चाई जानने का प्रयास किये तो जो निकल कर सामने आया वो सरकार के अभियान को पलीता लगाने वाला तथ्य सामने आया। जब हम पाली जनपद के ग्राम घुनघुटी पहुंचे तो वहां पता चला कि कोई आया ही नहीं। घुनघुटी निवासी राम सिंह बताये की हमारे गांव में ही कोई नही आया, वहीं जब हम पाली के विद्युत मंडल कालोनी पहुंचे जहां कल एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव निकला है जिस कालोनी की जनसंख्या लगभग साढ़े चार हजार है वहां के कर्मचारी रामजी नामदेव बताये कि हम लोगों ने टी व्ही में देखा था कि पूरे प्रदेश में किल कोरोना अभियान चलेगा और घर घर जांच की जाएगी तो बहुत खुशी हुई लेकिन यहां कोई आया ही नही जबकि कल एक आदमी पॉजिटिव निकला है। वहीं जब हम करकेली जनपद के ग्राम बिलासपुर पहुंचे तो वहां के नागरिक उमाकांत सोनी बताये कि कोई हमारे क्षेत्र में आया ही नही। वहीं जब मानपुर जनपद के ग्राम इंदवार की हकीकत जानने का प्रयास किया गया तो बैंक के पास बैठे कई लोग बताये कि हमारे यहां तो कोई आया ही नही।


इस मामले में जब सी एम एच ओ डॉक्टर राजेश श्रीवास्तव से बात करने का प्रयास किया गया तो वो मिले ही नहीं तब नोडल अधिकारी कोरोना अनिल सिंह से बात किया गया तो वो बताये कि जिले में हमको 7 लाख 16 हजार का टारगेट दिया गया था और हमने 155 टीमों का गठन किया था जिसमें ए एन एम, आशा, आंगनबाड़ी और लोकल शिक्षक को रखा गया था 14 जुलाई तक 80 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है, इस दरम्यान 923 लोगों के सैम्पल लिए थे जिसमें से 20 पॉजिटिव पाए गए थे अभी 19 एक्टिव केश हैं। वहीं जब जमीनी हकीकत के बारे में पूंछा गया तो स्वीकार किये कि कुछ दलों द्वारा ठीक से काम नही किया गया है, कलेक्टर साहब के संज्ञान में बात चली गयी है उन पर कार्रवाई की जाएगी और हम फिर से उन जगहों पर करवाएंगे।
यह रही किल कोरोना अभियान की जमीनी हकीकत, और सी एम एच ओ की लापरवाही जो प्रदेश सरकार की योजनाओं को ही पलीता लगा दिए, ऐसे में कैसे कोरोना का सफाया होगा सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *