आकस्मिक मौत हो जाने के बाद इंसान आखिर क्यो बन जाता है भूत!

ख़बरे हटके

इंसान ने धरती पर जन्म लिया है तो उसकी मौत भी निश्चित है लेकिन इंसान को मनुष्य की इन योनि में आकर कई तरह के कर्मों से भी होकर गुजरना होता है जिसमें कुछ लोग अच्छे कर्म भी करते है और कुछ बुरे। शरीर में बुराईयों के साथ मरने वाले इंसान को कभी मुक्ति नही मिलती। क्योकि धरती का पाप उसका हर समय पीछा करता है। और वह प्रेत योनि को प्राप्त होता है भले ही कुछ लोग  इस को अंधविश्वास मान कर  नजरअंदाज कर देते है।लेकिन यह बात सच  है कि जब हमारे शरीर में आत्मा का वास होता है तो फिर जाहिर है कि यही आत्मा प्रेतात्मा में भी बदल सकती है, पर प्रेत योनि में परिवर्तन किस प्रकार से होता है और किस तरह से भूत प्रेतो का जन्म होता है, आज हम आपको इसके बारे में बता रहें हैं। हर कोई भूतो-प्रेतो के बारे में यकीन नहीं करता है, पर ये सभी जानना चाहते है ये भूत होते क्यों है और ये कहां से आते है?

हमारे शरीर में आत्मा का वास होता है और यही आत्मा तीन रूपों में बदलती है। जिनमे पहली होती है आत्मा,प्रेतआत्मा, फिर सूक्ष्मआत्मा । ये तीनो का मिश्रण हर इंसानो के शरीर में हमेशा रहता है जब किसी व्यक्ति के शरीर मेंआत्मा का प्रवेश होता है तो वह जीवात्मा हो जाती है और जब मनुष्य की योनि में आने के बाद जैसे जैसे शरीर में चाहत, कामना से भरी इच्छाएं और वासनाएं बढ़ने लगती है तो शरीर की जीवात्मा प्रेतात्मा में बदल जाती है और इसी तरह की इच्छाओं को लेकर जब मनुष्य अपनी शरीर का त्याग करता है। तो उसकी आत्माए अपने लक्षय को पाने के लिए अपना रूप बदलने लगती है। जो बाद में भूत और प्रेत वाली योनि में बदल जाती है। कहा जाता है।

व्यक्ति के मरने के बाद का सबसे शरुआती पद होता है, भूत की योनि इसमें व्यक्ति अपने मन में किसी इच्छा को लेकर मरता है जो कभी पूरी नहीं हो पाती। जिससे शरीर का नाश हो जाने के बाद भी वो प्रेत रूपी योनि पाकर भी अपनी इच्छा को पूरा करने की कोशिश करता है। जब कोई व्यक्ति की आकस्मिक मौत होती है या फिर समय से पहले ही वो देह को त्याग देता है, जैसे- हत्या आत्महत्या, एक्सीडेंट, या फिर भूख या प्यास से मौत का हो जाना, इस तरह से जो लोग अपनी जान को गंवाते है तो वो लोग ही भूत की योनि में प्रवेश करके भूत बनते है। वहीं जिस मनुष्य के अंदर काफी बुराई होती है, तो उसकी बुरी आत्मा बुरे इंसान को गतल काम करने को उकसाती है। जो अपने द्वारा नहीं बल्कि किसी व्यक्ति के शरीर पर जाकर उसके माध्यम से गलत काम करने को मजबूर करती है। इसलिए इन सभी बुरी आत्माओं से बचने के लिए मनुष्य को ईश्वरीय शक्ति को पाना काफी आवश्यक होता है और ये जब मिल सकती है जब आप पूरी निष्ठा के साथ ईश्वर का पाठ करें और अपने कर्म को सही बनाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *